पीछे
विशेषज्ञ लेख
आलू की खेती के सर्वोत्तम तरीके

.

.

आलू दुनिया की सबसे महत्वपूर्ण खाद्य फसलों में से एक है। जिसे “गरीब आदमी का दोस्त” के रूप में भी जाना जाता है, इसमें स्टार्च, विटामिन विशेष रूप से सी और बी1 और खनिज तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते है, वर्ष 2018-2019 में भारत में आलू की बुवाई का कुल क्षेत्रफल २.१७ मिलियन हेक्टेयर था, और कुल उत्पादन ५०.१९ मिलियन टन था , इस उत्पाद का मुख्य रूप से सब्जियों के रूप में सेवन किया जाता है, लेकिन आलू के चिप्स, फ्रेंच फ्राइज़, आलू के गुच्छे आदि जैसे कृषि-प्रसंस्करण क्षेत्रों में अपार संभावनाएं हैं, जिसका बाजार हिस्सा २०५० तक कई गुना बढ़ने का अनुमान है। वर्तमान में, आलू की उत्पादकता भारत में अनुमानित २३ टन/हेक्टेयर हैं।

undefined
undefined
undefined

सर्वोत्तम किस्म का चुनाव कैसे करें

सर्वोत्तम किस्म का चुनाव कैसे करें

ये भारत में उगाई जाने वाली लोकप्रिय किस्में हैं:-

• कम अवधि (७० से ९० दिन बुवाई के बाद): जैसे। कुफरी पुखराज, कुफरी चंद्रमुखी, कुफरी अशोक

• मध्यम अवधि (९० से १०० दिन बुवाई के बाद): जैसे। कुफरी ज्योति, कुफरी आनंद, चिप्सोना १,२,३ (आलू के चिप्स के लिए)

• लम्बी अवधि (११० से १३० दिन बुवाई के बाद): जैसे: कुफरी गिरिराज, कुफरी सिंदूरी

रोपण का मौसम

रोपण का मौसम

भारत में आलू की खेती रबी के मौसम में (३ अक्टूबर से नवंबर के अंत तक) में की जाती है। रोपण का आदर्श समय वह है जब औसत अधिकतम तापमान ३० से ३२ डिग्री सेल्सियस और औसत न्यूनतम तापमान १८ से २० डिग्री सेल्सियस के बीच हो।

undefined
undefined

खेत की तैयारी

खेत की तैयारी

रोपण के लिए मिट्टी को इस प्रकार तैयार किया जाना चाहिए जिसे पौधे के अंकुरण और तेजी से विकास के लिए अनुकूलित हो जिसमे (बीज सड़ने का कम जोखिम, बढ़ने की अवधि का बेहतर उपयोग) बेहतर पानी निकास और पोषक तत्वों के साथ जड़ के गहरे विकास के लिए अनुकूलित हो, मिट्टी में जल जमाव ना हो और उन पोधो को हटा दे, जिनका अनुकरण और विकास देरी से हुआ हो यह यांत्रिक कटाई में बाधा डालते हैं।

undefined
undefined

जुताई किस प्रकार करें

जुताई किस प्रकार करें

१ या २ गहरी जुताई करके भूमि को अच्छी तरह से तैयार करें, और उसके बाद हैरोइंग और कल्टीवेटर का उपयोग करके आडी/तिरछी जुताई करें। आलू की खेती के लिए नालीदार या ऊंची उठी क्यारी बना कर खेती करना भी लाभप्रद होता हैं।

undefined
undefined

बीज कंद का चुनाव

बीज कंद का चुनाव

हमेशा प्रमाणित बीज कंदों का ही प्रयोग करें। रोपण के लिए ५० - ६० ग्राम वजन वाले कंदों को प्राथमिकता दी जाती है। यदि कंद बड़े हैं तो उन्हें लंबवत काट लें, ताकि अंकुर दोनों तरफ से हो, कटे हुए कंदों में हर तरफ कम से कम २ -३ आंखें होनी चाहिए। पपड़ी, मस्से, सूत्रकृमि संक्रमण, सड़ांध किसी भी प्रकार के रोग वाले कंदों को छांट कर फेंक देना चाहिए।

बीज दर: ६०० से ८०० किग्रा/एकड़

undefined
undefined

बुवाई से पहले बीज उपचार

बुवाई से पहले बीज उपचार

बीज के लिए उपयोग किए जाने वाले कंद बैग को बाहर निकालने से पहले २४ घंटे के लिए कोल्ड स्टोर के प्री-कूलिंग चैंबर में रखें। और रोपण करने से पहले आलू के कंदों को कोल्ड स्टोरेज से निकालने के बाद एक से दो सप्ताह के लिए ठंडे और छायादार स्थान पर रखना चाहिए, ताकि अंकुरण ठीक से हो। एकसमान अंकुरण पाने के लिए, कंदों को गिब्बेरेलिक एसिड @ १ ग्राम /१० लीटर पानी के साथ १ घंटे के लिए उपचारित करें, फिर छाया में सुखाएं और बीज को अच्छी तरह से हवादार कमरे में १० दिनों के लिए रख दें।

एमेस्टो प्राइम® . के साथ बीज कंद उपचार

एमेस्टो प्राइम® . के साथ बीज कंद उपचार

एमेस्टो प्राइम® के साथ कंद उपचार से काली रुसी (राइज़ोक्टोनिया सोलानी) रोग से फसल को अच्छा प्रतिरोध मिलता हैं, किसान बुवाई से पहले एमेस्टो प्राइम® का उपयोग कर अच्छी गुणवत्ता वाली और उच्च उपज प्राप्त कर सकते हैं। उपचार के लिए कंदों को काटने के बाद, पॉलिथीन की पन्नी पर रख दें।घोल बनाने के लिए १०० मिली एमेस्टो प्राइम® को ४ -५ लीटर पानी में मिलाएं।और बीज कंदों पर घोल का छिड़काव करें।सामान्य परिस्थितियों में कंदो को ३० -४० मिनट तक सूखने दें और सूखे बीज कंदों की बुवाई करें।

undefined
undefined

कंदो की बुवाई की सटीक गहराई

कंदो की बुवाई की सटीक गहराई

कंदों को ५ सेमी. की गहराई में बोया जाना चाहिए,अनुचित तरीके से करी गई बुवाई और गहराई के कारण उथले रोपण से कंद हरे हो जाते हैं और जड़ो का विकास कम होता हैं। तापमान में उतार-चढ़ाव से गलत अनुचित आकर के कंद, पछेती झुलसा और कीट का हमला कंद पर अधिक होता है।

undefined
undefined

रोपण और फसल स्थापना

रोपण और फसल स्थापना

कंदों को पूर्व-पश्चिम दिशा में बनाई गई ३० -४० सेंमी क्यारीयो पर बोया जा सकता है।समान दूरी पर लकीरें बनाने के लिए हल को ६० सेंमी की दूरी पर हल को खोलें। बीज के कंदों को बीज से बीज की दूरी पर १०-१५ सेमी की दूरी पर रखे, रोपण से एक दिन पहले हल्की सिंचाई करें और रोपण के बाद एक और हल्की सिंचाई करें। उचित रिज निर्माण प्रकाश जोखिम (हरे कंद) को रोकता है; उच्च तापमान, आलू कीट के संक्रमण, खरपतवार से सुरक्षा प्रदान करता है और पौधों के विकास को बढ़ावा देता है।

undefined
undefined
undefined
undefined

मिट्टी चढ़ाना

मिट्टी चढ़ाना

कंद के संपर्क को रोकने के लिए दो बार मिट्टी चढ़ना जरुरी होता हैं, जिसके परिणामस्वरूप हरे कंद की समस्या को रोका जा सकता है। पहली बार २०-२५ दिन बाद मिट्टी चढ़ना चाहिए। फिर लगभग ४० - ४५ दिन बाद मिट्टी चढ़ाने का कार्य करना चाहिए,अंतर खेती फसल को कंद को कीट, हरे कंद के गठन और खरपतवारों से सुरक्षा प्रदान करती हैं।

undefined
undefined

फसल की कटाई

फसल की कटाई

कटाई तब की जाती है जब पौधे शारीरिक परिपक्वव् दिखाई दे, जिसके दौरान मिट्टी ढेर को हटा दिए जाते हैं और कंदों को काट लिया जाता है। लाभकारी बाजार मूल्य या बीज उद्देश्य से उत्पादन प्राप्त करने के लिए फसल जल्दी काट ली जाती हैं, हल से कंद की कटाई के लिए ७ -१० दिन पहले सिंचाई बंद कर देनी चाहिए।कटाई हाथो से या ट्रैक्टर या बैल द्वारा खींचे जाने वाले आलू खोदने वाले उपकरणों से की जा सकती है। सामान्य तौर पर, फसल प्रबंधन के आधार पर आलू की उपज १२ से १५ टन प्रति एकड़ होती है।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

undefined
undefined

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button