पीछे
विशेषज्ञ लेख
तरबूज की फसल के लिए सबसे उचित जानकारी

जाने तरबूज की फसल के लिए कैसी मिट्टी और जलवायु उपयुक्त हैं?

जाने तरबूज की फसल के लिए कैसी मिट्टी और जलवायु उपयुक्त हैं?

तरबूज की फसल आम तौर पर गर्म मौसम में उगायी जाती है, अच्छी तरह से सूखी मिट्टी जिसमें अच्छी जल धारण करने की क्षमता हो खेती के लिए उपयुक्त होती है। तेजी से विकास और अच्छी पैदावार के लिए पौधों को लगातार पानी की आपूर्ति की आवश्यकता होती है, लेकिन पानी के अत्यधिक उपयोग से बचा जाना चाहिए, क्योंकि मिट्टी के अधिक गीली रहने और जल निकास नहीं होने पर जड़े गल सकती है और अन्य रोग होने की संभावना रहती है । इष्टतम वृद्धि के लिए मिट्टी का पीएच ६ - ६.५ के बीच होना चाहिए। फलों के विकास के दौरान फसल को उच्च तापमान (३५ - ४० 0 C) के साथ गर्म मौसम की आवश्यकता होती है।

undefined
undefined
undefined

तरबूज के लिए भूमि की तैयारी और बुवाई की प्रथाएं

तरबूज के लिए भूमि की तैयारी और बुवाई की प्रथाएं

➥ भूमि की तैयारी के लिए भूमि की २ -३ बार जुताई करें जिसे मिट्टी को बीजरोपण और अंकुरो की स्थापना के लिए अधिक उपयुक्त बनाते हैं, साथ ही जड़ो की वृद्धि, पौधे के अच्छे विकास में भी सहायक होती है जिसे अच्छी उत्पादकता मिलती है और मिट्टी से होने वाली बीमारी से भी बचाव करती है । खेत तैयार करते समय .जैविक खाद ७ -८ टन /एकड़ खेत में समान रूप से उपयोग करना चाहिए।

undefined
undefined

➥ बुवाई के लिए पंक्ति से पंक्ति की दूरी १५० सेमी और पौधे से पौधे की दूरी ४५ सेमी होनी चाहिए।

➥ बीज को मिट्टी में २-३ सेंटीमीटर गहरा लगाया जाना चाहिए,और प्रति एकड़ ३००- ४०० ग्राम बीजो की आवश्यक होती है।

➥ बेहतर विकास के लिए बुवाई उठी हुई क्यारियों में प्लास्टिक मल्च ( पन्नी ) और टपक सिंचाई के साथ किया जाना चाहिए, जिसे अंकुरों का विकास भी अच्छे से होता है और काले रंग की मल्च के उपयोग से खरपतवार का प्रभाव भी कम हो जाता हैं।

undefined
undefined

तरबूज के लिए उर्वरक की आवश्यकताएं

तरबूज के लिए उर्वरक की आवश्यकताएं

➥ तरबूज की फसल के लिए उर्वरक का उपयोग मिट्टी के प्रकार, उर्वरक क्षमता, और खेती के प्रकार पर निर्भर करता हैं, बुवाई के बाद सामान्यतः २५:५०:५० एनपीके/ एकड़ का उपयोग किया जाता है और बुवाई के ३० दिन बाद २५:००:५० का इस्तेमाल किया जाता हैं।

undefined
undefined

➥ खेत में पहले मादा फूल आने के बाद पानी में घुलनशील ५०० ग्राम बोरोन / एकड़ का साप्तहिक अंतराल में दो से तीन बार का उपयोग करे, इसे परागण अच्छे से होता है और फल भी अच्छे आते हैं।

➥ कटाई से पहले तक खेत को खरपतवारों से मुक्त रखा जाना चाहिए क्योंकि कुछ खरपतवार विषाणु जनित रोगों और कीटों के वाहक के रूप में कार्य करते हैं, जो तरबूज की फसल पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं।

undefined
undefined

पुष्पन के दौरान फसल की देखभाल

पुष्पन के दौरान फसल की देखभाल

➥ प्रत्येक सिंचाई के बाद खेत में मिट्टी चढ़ाए और मिट्टी की परत और मिट्टी के ढेलो को तोड़ दे।

➥ तरबूज के पोधो पर नर और मादा दोनों प्रकार के फूल लगते है पुष्पन के दौरान नर फूल हर गांठ पर और मादा फूल लगभग प्रत्येक सातवी गांठ पर लगते हैं।

➥ फसल में फलो की संख्या बीज के प्रकार, वातावरण , खेती के तरीके, समय पर सिंचाई और परागण पर निर्भर होती हैं।

undefined
undefined

परागण

परागण

➥ तरबूज के फूल सिर्फ एक दिन के लिए जीवित रहते है, यदि परागण नहीं होता तो फूल गिर जाते है, इसलिए हर दिन परागण में सहायक कीटो का उचित मात्रा में उपलब्ध रहना उपज के लिए अच्छा होता हैं।

➥ तरबूज की फसल में मधुमक्खियां मुख्य परागकर्ता होती है, अच्छे परागण के लिए हर फूल पर १० - १५ बार मधुमक्खियाो द्वारा परागित किया जाना जरुरी होता हैं, इसलिए प्रति एकड़ एक मधुमक्खियो की कॉलोनी स्थापित करना चाहिए।

undefined
undefined

तरबूज में विकारों को कैसे दूर किया जाए

तरबूज में विकारों को कैसे दूर किया जाए

➥ ब्लॉसम एंड रोट ( सड़न ) एक शारीरिक विकार है, जो कैल्शियम की कमी, अधिक नमी या दोनों से संबंधित हो सकता है। पोषक तत्वों के छिड़काव के माध्यम से कैल्शियम की कमी को पूरा किया जा सकता हैं।

➥ खोखले हृदय या श्वेत हृदय यह दो शारीरिक विकार हैं, जो आनुवांशिकी, पर्यावरण और कई पोषक तत्वों से प्रभावित हो सकता हैं, इसे नियंत्रित करने के लिए, फसल को इष्टतम पोषण और नमी की स्थिति में उगाया जाना चाहिए।

➥ सूरज की तेज धूप तरबूज को नुकसान पहुंचाती है। इसे संरक्षित करने के लिए उचित तरीके से मंडप बांधने की वव्यस्था करें।

undefined
undefined

तरबूज के प्रमुख रोग

तरबूज के प्रमुख रोग

➥ पौधों को स्वस्थ रखना और बीमारियों से बचाना महत्वपूर्ण है, मौसम के अंत में पत्तीयो की क्षति और पौधों के खराब स्वास्थ्य के कारण कम गुणवत्ता वाले फल कम मिठास और खराब स्वाद के फल प्राप्त होंगे। तरबूज के प्रमुख रोग पाउडरी फफूंद फलों की सड़न / टहनी का सूखना और भूरापन प्रबंधन हैं ।

➥फ्यूज़ेरियम गलन - गलन रोग से बचाव के लिए मिट्टी को बाविस्टिन (1.5%) या रिडोमिल एमजेड (1.5%) के साथ रोकथाम के लिए रोपाई के बाद भीगना चाहिए, अच्छे और सुरक्षित फफूंदनाशकों के साथ छिड़काव से चूर्ण फफूंदी, एन्थ्रेक्नोज और फलों के सड़न जैसे प्रमुख रोग कीटों के प्रबंधन में मदद मिलेगी।

undefined
undefined

तरबूज के महत्वपूर्ण कीट

तरबूज के महत्वपूर्ण कीट

➥ तरबूज की फसल के प्रमुख कीट माहू, सफेद मक्खी, तैला किट और पर्ण सुरंगक है, फसल के विकास के दौरान ५ - ६ बार कीटनाशकों का छिड़काव करके तरबूज के कीड़ों को नियंत्रित किया जा सकता है।सफ़ेद मक्खी और तैला जैसे कीटो को नियंत्रित करने के लिए अनुसंशित कीटनाशकों का छिड़काव करने की सिफारिश की जाती हैं।

undefined
undefined
undefined
undefined

तरबूज की परिपक्वता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है

तरबूज की परिपक्वता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है

➥ जब फल पर हल्की चोट की जाती है तो एक सुस्त आवाज सुनाई देती है

➥ फल के ऊपरी सिरे से बालो जैसा सिरा विकसित हो जाता हैं।

➥ जहां से फल ज़मीन पर छू रहा होता हैं वहां पिले रंग का धब्बा बन जाता हैं।

undefined
undefined

तरबूज की कटाई

तरबूज की कटाई

तरबूज की फसल की कटाई का समय फल की परिपक्वता से निर्धारित होता है, न कि फलों के आकार से। यदि फल पूरी परिपक्वता तक पहुँचते हैं तो फलों की कटाई के समय फल में पानी, गुणवत्ता और स्वाद सबसे अच्छा होता है। परिपक्व तरबूज की कटाई के बाद भी फल पकते रहते है, लेकिन फल का आकर या वजन कटाई के बाद नहीं बढ़ता ,परिपक्वता निर्धारित करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कारकों में फल पर जाल का स्तर, पृष्ठभूमि का रंग और घुलनशील ठोस पदार्थ (औसत ब्रिक्स मूल्य) शामिल हैं। औसत फल की पैदावार ५० -५५ टन प्रति हेक्टेयर है जो विभिन्न प्रकार और फसल प्रबंधन प्रथाओं पर निर्भर करती है।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

undefined
undefined

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button