पीछे
विशेषज्ञ लेख
मैंने खेत में एक तालाब कैसे बनाया- आधुनिक किसान

“मेरा नाम पांडुरंग इनामी है, में औरंगाबाद से 30 किलोमीटर पैठान तालुक में रहता हूँ। हमारा क्षेत्र बहुत सुखा है लेकिन कपास, मक्की और खट्टे फलों के बागों को उगाने के लिए बारिश पर्याप्त होती है। मैंने साल 2000 से 2003 तक जल की भारी कमी का सामना किया है। भू जल भी बहुत दुर्लभ है और गर्मियों में सुख जाता है। इसलिए मैंने बरसात के पानी को इकट्ठा करने और बोरवेल से भू जल को बढ़ाने की योजना बनायी। उस समय के दौरान, मैंने ICRISAT, हैदराबाद में एक प्रशिक्षण कार्यक्रम में भाग लिया, जहाँ मैंने सिखा कि पानी/जल को प्रभावी प्रकार से खेतों में तालाब/बावड़ी में संग्रहित किया जा सकता है और बेमौसम में खेतों में सिचाई के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है”

“उनके उदाहरण से सीख कर, मैंने खेत में तालाब/बावड़ी के निर्माण के कार्य को शुरू किया, इसके लिए यह बहुत ज़रूरी है की तालाब/बावड़ी ऐसे स्थान पर स्थित हो जहाँ से पानी को आसानी से खेतों में फसलों तक पहुँचाया जा सकता हो। खुदाई और ज़मीनी परिवहन, शारीरिक श्रम या खुदाई मशीनों और ट्रैक्टर जैसी मशीनों के मेल के साथ पूरा किया जा सकता है।“किसान पांडुरंग ने कहा|

undefined
undefined
undefined

मिट्टी की खुदाई को ट्रैक्टर द्वारा संचालित खुदाई मशीन की मदद से कुशलतापूर्वक किया जा सकता है। तालाब/बावड़ी के एक छोर से मिट्टी की खुदाई को शुरू किया जा सकता है। मिट्टी को आवश्यक गहराई तक निकाल दें। जब जल की पूर्ति करने वाले तालाब/बावड़ी के तले से मिट्टी पूरी तरह से निकल जाती है, तो जलाशय को आकार देने के लिए मिट्टी भरने की बजाय कटाई हमेशा उचित रहती है। इससे तालाब/बावड़ी को बेहतर चारदीवारी मिलती है।

100x100x12 क्यूबिक फूट तालाब की खुदाई के लिए बाज़ार की दर 80,000 रुपये से 90,000 रुपये के बीच में आती है, लेकिन इस योजना के तहत किसानों को सब्सिडी भी मिलती है। मेरे खेत के तालाब का आयाम 250 फीट x 250 फीट x 28 फीट है। मुझे महाराष्ट्र सरकार की ओर से 100% सब्सिडी प्राप्त हुई और वर्तमान में यह सब्सिडी पॉलीथीन शीट की कीमत पर लगभग 50% है।

undefined
undefined

खेत में बने इस तालाब/बावड़ी का पानी गहरी सिंचाई के साथ 20 एकड़ ज़मीन की सिंचाई के लिए पर्याप्त है। आजकल में इस पानी के साथ गन्ने, सपोटा और मौसंबी की खेती कर रहा हूँ। एक बार बन जाने के बाद, इन्हें कम से कम मरम्मत और रख-रखाव की ज़रूरत होती है। जल के इस स्रोत से रिसाव और अन्य नुकसान से बचने के लिए, तालाब/बावड़ी को उच्च घनत्व के पॉलीथीन की परत के साथ बनाया जाना चाहिए। मैंने उस समय के दौरान DP प्लास्टिक रतलाम से HDP सामग्री का इस्तेमाल किया था जो 10 सालों से अधिक चला है।

तालाब।बावड़ी की उचित लाइनिंग के साथ, रिसाव के नुकसान को कम किया जा सकता है। तालाब/बावड़ी की लाइनिंग के लिए प्लास्टिक को बहुत प्रभावी रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन, तालाब/बावड़ी को प्लास्टिक के साथ लाइनिंग करने के लिए, सही सामग्री और प्लास्टिक सामग्री को बिछाने और उसे नुकसान से बचाने के लिए पर्याप्त ध्यान देने की ज़रूरत है। पॉलीथीन रोल को कठोरता से या खींचे नहीं, क्योंकि ऐसा करने से फिल्म प्रक्रिया के दौरान खराब हो सकती है। फिल्म को पंचर होने से बचाने के लिए, लाइनिंग की प्रक्रिया के दौरान, मजदूरों को उस पर चलने न दें। यदि ऐसा कर पाना संभव न हो, उन्हें नंगे पाँव चलना चाहिए। एक बार तालाब/बावड़ी बनने के बाद, तालाब/बावड़ी के लंबे समय तक चलने के लिए नियत समय पर निरीक्षण ज़रूरी है। इस प्रकार समय पर रख-रखाव लंबे समय तक चलने के लिए सफलता की कुंजी है। इसमें निरीक्षण समस्याओं का हल, और नुकसान की मरम्मत शामिल है। नुकसान की जांच और अधिक नुकसान होने से बचने के लिए तत्काल मरम्मत आवश्यक होती है

undefined
undefined

खेत के तालाब/बावड़ी के बेहतर प्रबंधन के लिए कुछ महत्वपूर्ण बिंदु निम्न प्रकार हैं:

1.तालाब/बावड़ी का क्षेत्र उचित बाड़ के साथ पशुओं की घुसपैठ से सुरक्षित होना चाहिए।

  1. तालाब/बावड़ी में मछली उत्पादन से आय वृद्धि में मदद मिलेगी। मैं भी रोहू, कटला जैसी ताज़े पानी की मछलियों का उत्पादन करता हूँ जिससे मुझे 120 रुपये प्रति किलो की आय होती है। आठ महीने की उत्पादन अवधि के बाद मैं उन्हें बेचता हूँ, जिससे मुझे लगभग 80,000 रुपये प्राप्त होते हैं।

खेत में तालाब/बावड़ी बनाना सूखे को कम करने का एक कारगर तरीका है और कृषि आय बढ़ाने में भी मदद करता है। किसान जल संरक्षण और उत्पादकता बढ़ाने की दिशा में सोच सकते हैं।

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button