पीछे
विशेषज्ञ लेख
चावल(धान) में जीवाणु रोगों को कैसे नियंत्रित करें?

जीवाणु झुलसा रोग (बीएलबी)

जीवाणु झुलसा रोग (बीएलबी)

धान की फसल में झुलसा रोग सबसे गंभीर रोगो में से एक है। रोग की गंभीरता और खेती की संवेदनशीलता के आधार पर झुलसा रोग के कारण उपज का ६-६०% के बीच नुकसान हो सकता है, उपज में कमी का कारण भूसी में वृद्धि, अनाज के वजन में कमी और पुष्पगुच्छों का शीर्ष स्तर पर अधिकतम क्षतिग्रस्त होना बताया गया है।यह रोग धान में कल्ले की अवस्था से लें कर, दाने भरने तक के किसी भी चरण में हो सकता हैं।

undefined

रोग फैलने के लिए अनुकूल परिस्थितियां

रोग फैलने के लिए अनुकूल परिस्थितियां

➥ उच्च सापेक्ष आर्द्रता (>९०%) और मध्यम तापमान (२६-३०डिग्री सेल्सियस) रोग के फैलने के लिए अनुकूल होता है।

➥ भारी वर्षा, हल्की तीव्रता और बार-बार आने वाले चक्रवात इस रोग को फ़ैलने के लिए अनुकूल होते हैं।

➥ यह बीमारी पानी के माध्यम से भी फैलती है।

➥ नाइट्रोजनयुक्त उर्वरकों के अधिक उपयोग और फसल के पास-पास रोपण से भी रोग अधिक फ़ैल सकता है।

➥ संक्रमित पौधे के द्वारा, और खेत में खरपतवार रहने पर भी यह रोग अधिक फैलता हैं।

झुलसा रोग के लक्षण

झुलसा रोग के लक्षण

इस रोग में पूरा पौधा मुरझा जाता हैं, या पत्तिया झुलस जाती हैं।

अंकुरों का गल जाना या क्रेसेक

अंकुरों का गल जाना या क्रेसेक

➥ विल्टिंग सिंड्रोम (अंकुरों का गल जाना) जिसे ‘क्रेसेक’ के नाम से जाना जाता है, जो धान के खेतों में होता है, जिससे गंभीर क्षति होती है। यह आमतौर पर फसल के प्रत्यारोपण के बाद ३-४ सप्ताह के भीतर होता हैं।

➥ संक्रमण के परिणामस्वरूप या तो पूरे पौधे मर जाते हैं,या केवल कुछ पत्ते ही मुरझा जाते हैं।

undefined
undefined

पर्ण झुलसा रोग

➥ पत्ती की सतह पर पीली-नारंगी रंग की धारियाँ दिखाई देती है, पत्ती के किनारे लहरदार हो जाते है, और धब्बे पत्ति के निचे की और फ़ैलते हैं।

➥ आगामी चरण में धब्बे पूरे पत्ते को ढक सकते हैं, जो सफेद और फिर भूरे रंग के हो जाते हैं।

➥ सुबह के समय युवा घाव पर जीवाणुओं द्वारा उत्सर्जित दूधिया ओस की बूंदो जैसा पदार्थ दिखाई देता है।

undefined
undefined
undefined
undefined

जीवाणु रोग दूसरों की तुलना में कैसे अलग होते हैं

जीवाणु रोग दूसरों की तुलना में कैसे अलग होते हैं

undefined
undefined

नए संक्रमित पत्ते को काटकर साफ पानी के एक पारदर्शी कांच के बर्तन में रख दें, कुछ मिनट के बाद, बर्तन को प्रकाश के सामने रखे,और पत्ती के कटे हुए सिरे से एक गाढ़े या गंदले रंग का तरल दिखाई देता हैं,जिसे बैक्टीरियल ओज कहा जाता है। इस तरह आप फफूंदी रोगों और पोषण संबंधी कमियों को स्पष्ट रूप से पहचान सकते हैं।

सिफारिशे

सिफारिशे

➥ ऐरिज ब्रांड में रोग प्रतिरोधी धान की संकर किस्मो का उपयोग करें। ऐरिज ६१२९ गोल्ड (११५ -१२०दिन), ऐरिज तेज गोल्ड (१२१ -१३० दिन), ऐरिज ६४४४ गोल्ड और एजेड ८४३३ डीटी (१३१-१४० दिन), एजेड धनि डीटी (१४१-१४५ दिन) इन किस्मो का उपयोग जीवाणु झुलसा रोग से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए किया जा सकता है।

undefined
undefined

➥ नाइट्रोजन आधरित उर्वरक के अधिक उपयोग से बचें, और उसे मौसम अनुसार विभाजित कर उपयोग करें।

➥ मौसम की स्थिति अनुकूल होने पर नाइट्रोजन की अंतिम खुराक के साथ पोटाश की मात्रा का उपयोग करें।

➥ खेत को साफ रखें, खेत की मेढ़ और नालियों के पास से खरपतवार की सफाई करते रहे।

➥ रोग के प्रभाव को रोकने के लिए पोधो के अवशेष को मिट्टी में सूखने दे।

➥ कॉपर युक्त कवकनाशी का प्रयोग करें। कॉपर ऑक्सीक्लोराइड (COC) और स्ट्रेप्टोसाइक्लिन का छिड़काव बेहतर नियंत्रण प्रदान कर सकता है। यह किसी भी द्वितीयक संक्रमण को रोकने में मदद करता है।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button