पीछे
विशेषज्ञ लेख
जाने कैसे करें मेंथा की खेती

मेंथा को कृषि क्षेत्र में नकदी फसल के रूप में भी जाना जाता है, हालांकि इसका उपयोग दशकों से आयुर्वेद में विभिन्न दवाओं के लिए किया जाता है, इसलिए मेंथा ( पोदीना, पिपरमेंट ) की खेती कश्मीर, पंजाब, उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड सहित भारत के कई क्षेत्रों में होती है। मेंथा उत्तर प्रदेश में बड़े क्षेत्रों में उगाया जाता है, लेकिन इसकी उच्च मांग के कारण कई क्षेत्रों में मेंथा की खेती लोकप्रिय हो रही है। मेंथा की उच्च मांग के कारण, कई कंपनियां इसकी खेती के लिए बीज, उर्वरक और अन्य सुविधाएं प्रदान करती हैं, और अच्छे दामों पर उपज भी खरीदती हैं।

दवा से लेकर सौंदर्य प्रसाधन और खाद्य पदार्थों तक इसके उपयोग के कारण मेंथा तेल की मांग लगातार बढ़ रही है, जिसके कारण किसानों को बहुत अच्छा मुनाफा हो रहा है, और भारत इसका सबसे बड़ा उत्पादक है, विभिन्न सरकारी और गैर-सरकारी संस्थान समय-समय पर मेंथा की खेती के लिए काम करते हैं और सरकार द्वारा मेंथा की खेती के लिए कई योजनाएँ बनाई जाती हैं, जिसका लाभ ले कर किसान अनुदान प्राप्त करके खेती कर सकते हैं।

मेंथा के प्रकार

मेंथा के प्रकार

भौगोलिक और वातवरणी परिस्तिथियों के आधार पर विभिन्न क्षेत्रों में मेंथा की अलग अलग किस्मो की खेती की जाती है, जैसे जलीय मेंथा, बुद्धिया मेंथा, जापानी पुदीना और काला पोदीना, जिसमे सबसे अधिक पसंद की जाने वाली प्रजाति जापानी पुदीना है , जिसकी खेती उत्तर प्रदेश, बिहार, और मध्य प्रदेश के कुछ भागो में बहुतायत में की जाती है, यह नमी वाले दलदली क्षेत्रों, घास के मैदान जिसमे जल निकास की वव्यस्था ठीक नहीं ऐसी परिस्तिथि में भी खेती की जा सकती है, इसकी उचाई १ मीटर तक होती है , पत्तिया अंडाकार थोड़ी लाल/ हरे रंग की होती है, सामान्य रूप से किसान को 1 एकड़ में 200 - 220 किलोग्राम उपज और 85-85 किलोग्राम मेंथा तेल प्राप्त होता है

undefined
undefined

जलवायु

जलवायु

मेंथा की खेती सभी प्रकार के वातावरण में की जा सकती है। सभी प्रकार का मौसम इसके लिए उपयुक्त माना जाता हैं।

undefined
undefined

भूमि

भूमि

हल्की दोमट , थोड़ी रेती वाली बलूई मिट्टी जिसमे जल निकास की व्वयस्था हो उपयुक्त होती है, कार्बनिक जीवाश्म वाली मिट्टी जिसका Ph ६ से ७ हो अच्छी उपज के लिए उपयुक्त होती है, बुवाई से पहले हल से गहरी जुताई करे, और दो बार आडा और तिरछा हल चलाए, जिसे मिट्टी भुरभुरी हो जाए जिसे पौधे की जड़े मिट्टी में ठीक से फ़ैल जाए।

undefined
undefined

खाद व उर्वरक

खाद व उर्वरक

उर्वरक का उपयोग करने से पहले मिट्टी की जाँच ज़रूर कर लें और हल चलाते समय मिट्टी में 100 किलोग्राम फार्म यार्ड खाद और 150 किलोग्राम एनपीके / एकड़ का उपयोग करें। कई क्षेत्रों में जस्ता की कमी आम है।इसलिए भूमि तैयार करते समय मिट्टी में 20 किलोग्राम जिंक सल्फेट मिलाया जाना चाहिए।

undefined
undefined

रोपाई

रोपाई

मेंथा की रोपाई के लिए फरवरी के अंत से मार्च का समय उपयुक्त होता है, रोपाई के लिए बीज और सकर (तनो ) का इस्तेमाल किया जाता है, बुवाई के पहले इन्हे ट्राइकोडर्मा से उपचारित कर लेना चाहिए, यदि सीधे बुवाई की जा रही है तो पंक्ति से पंक्ति की दुरी ४ से ६ सेमी रखे और गड्डो की गहराई ३ सेमी से अधिक ना रखे रोपाई के बाद हल्की सिंचाई करें।

undefined
undefined

खरपतवार नियंत्रण

खरपतवार नियंत्रण

मेंथा की खेती के लिए, बुवाई से पहले, मशीन या हाथो से खरपतवार हटा कर ही बुवाई करे, बुवाई के 30 दिनों बाद अनुसंशित खरपतवार नाशकों का छिड़काव करे,क्योकि मेंथा की फसल बहुत घनी होती है, इसलिए समय समय पर फसल का निरीक्षण करते रहना चाहिए और आवश्यक होने पर हाथो से निराई गुड़ाई कर हटा दे.

undefined
undefined

अंतर - फसल

अंतर - फसल

मेंथा की खेती अन्य फसलों के साथ भी की जा सकती है, जिसे किसान को अधिक लाभ मिल सकता है, मेंथा को खस की फसल के साथ बहुतायत में लिया जाता है क्यों की दोनों फसलों के परिपवक्ता में ९० - १२० दिनों का समय लगता है, और उर्वरको की आवश्यता भी समान होती है। इसके आलावा लहसुन की फसल के साथ भी मेंथा की खेती की जाती है, लहसुन की बुवाई नवम्बर में की जाती है और और दो माह बाद खेत की शेष जगह में मेंथा की रोपाई की जा सकती हैं, जिसे किसान को दोहरा लाभ मिलेगा, इसके साथ ही किसान गन्ने के साथ भी मेंथा की फसल लें सकते है।

undefined
undefined

रोग एवं नियंत्रण

रोग एवं नियंत्रण

पत्ती का धब्बेदार रोग

पत्ती का धब्बेदार रोग

यह फफूंदी जनित रोग होता है, जिसके लक्षण पत्ती के पीछे की और धब्बो के रूप में दिखाई देते है, जिसे पत्तिया पिली हो कर गिर जाती हैं, जिसके निवारण के लिए कॉपर ऑक्सीक्लोराइड, डाइथेन का निर्देशानुसार २० दिनों के अंतराल में छिड़काव करें।

undefined
undefined

चूर्णिल आसिता

चूर्णिल आसिता

यह एक कवक रोग है, जिसमें पौधे पर सफेद धब्बे दिखाई देते हैं, पौधा कमजोर हो जाता है और मर जाता है, जिसकी रोकथाम के लिए उचित कवकनाशी का उपयोग किया जाना चाहिए।

undefined
undefined

कीटों का प्रकोप और नियंत्रण

कीटों का प्रकोप और नियंत्रण

रोयेंदार सुंडी

रोयेंदार सुंडी

सुंडी का प्रभाव ठन्डे क्षेत्रों में अधिक होता है, पिले भूरे रंग की ३ सेमी तक लम्बी सुंडी पोधो पर देखी जा सकती है जो पत्ती के हरे उत्तको को खा लेती है जिसे उपज पर प्रभाव पड़ता है, जिसके रोकथाम के लिए कृषि विशेज्ञ से परामर्श के बाद उपयुक्त कीटनाशकों का उपयोग करें।

undefined
undefined

माहू

माहू

यह कीट शिशु पौधों पर आक्रमण कर पौधे से रस चूसता है। इस कीट का प्रकोप का अप्रैल - जून माह में अधिक होता हैं, जिससे पौधों का विकास रूक जाता हैं, क्षति को नियंत्रित करने के लिए, पर्ण उर्वरक का उपयोग करें।

undefined
undefined

कटाई

कटाई

मेंथा की फसल १०० से १२० दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है, मौसम और प्रकार के आधार पर फसल की कटाई २ से ३ बार की सकती है, सही समय पर फसल की कटाई ना होने पर पत्तियों में तेल की मात्रा कम हो जाती हैं, इसलिए फूल आने पर तुरंत पहली कटाई करे।

undefined
undefined

लाभ

लाभ

वैसे मेंथा की पत्तियों को सीधे बाजार में बेच कर भी किसान मुनाफा कमा सकते है, पर अधिक मुनाफा मेंथा का तेल बेच कर प्राप्त किया जा सकता हैं, सामान्यतः एक एकड़ से ८० से ८५ लीटर मेंथा तेल भाप विधि से प्राप्त किया जा सकता है, जिसका बाजार मूल्य १२०० से ४००० रूपए प्रति लीटर तक होता है, इसके अलावा साथ ही कई सौन्दर्य उत्पादक और दवा बनाने वाली कंपनी इसे सीधे किसानो से उचित दामों पर भी खरीद लेती है।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button