पीछे
विशेषज्ञ लेख
हरित गृह/ पौधा गृह में बीज रहित खीरे कैसे उगाएं

आमतौर पर, खीरे की खेती गर्मियों और बारिश के मौसम में खुले खेतों में की जाती हैं। लेकिन सर्दियों के मौसम में खीरे की खेती थोड़ी मुश्किल होती है, लेकिन ग्रीनहाउस में खीरे की खेती हर मौसम में आसनी से की जा सकती है, जिसे किसानों को बहुत अच्छे बाजार मूल्य मिल सकते हैं, फार्मराइज ऐप आप के निकटतम बाजारों में खीरे की फसलों के लिए बाजार मूल्य प्रदान करता है।

बीज रहित खीरा

undefined

इन दिनों बीजरहित खीरे ज्यादातर ग्राहकों द्वारा पसंद किये जा रहे है।

बीज रहित खीरे की विशेषता

➥फलों की लंबाई: १४- १६ सेमी

➥कटाने में आसान और स्वाद में अच्छी

➥सर्दी के मौसम के अलावा सभी परिस्तिथियो के उत्तम

➥१००% तक उत्पादन क्यों की परागण आवश्यक नहीं

➥हरित गृह/ पौधा गृह जैसी संरक्षित संरचना के तहत आसान खेती

undefined
undefined

खेती के उपाए

खेती के उपाए

हम अपनी टीम द्वारा किए गए अनुसंधान के आधार पर हरित गृह/ पौधा गृह जैसी परिस्थितियों में बीज रहित खीरे की खेती के लिए सर्वोत्तम तरीको की जानकारी दे रहे हैं।

हरित गृह/ पौधा गृह में बीज रहित खीरे कैसे उगाएं

हरित गृह/ पौधा गृह में बीज रहित खीरे कैसे उगाएं

undefined
undefined

पौधो के बिच अंतर

पौधो के बिच अंतर

आमतौर पर, खीरे की खेती गर्मियों और बारिश के मौसम में खुले खेतों में की जाती हैं। लेकिन सर्दियों के मौसम में खीरे की खेती थोड़ी मुश्किल होती है, लेकिन ग्रीनहाउस में खीरे की खेती हर मौसम में आसनी से की जा सकती है, जिसे किसानों को बहुत अच्छे बाजार मूल्य मिल सकते हैं, फार्मराइज ऐप आप के निकटतम बाजारों में खीरे की फसलों के लिए बाजार मूल्य प्रदान करता है।

undefined
undefined

सीधी बुआई

सीधी बुआई

बीजो को २- ३ से.मी. की गहराई में पहाड़ी जैसी रचना बना कर बुवाई करना चाहिए बुवाई के शुरुआती चरण में अत्यधिक सिंचाई से बचना चाहिए, चूहों के नुकसान से बचने के लिए बीज की प्रारंभिक अवस्था में उच्च देखभाल की जानी चाहिए।

undefined
undefined

नर्सरी में बुवाई

नर्सरी में बुवाई

बीजो को कीट रहित हरित गृह में उगाए जाने चाहिए,और रोपाई के लिए १२ से १५ दिन पुराने अंकुर का उपयोग किया जाना चाहिए।

बीज रहित खीरा

बीज रहित खीरा

undefined
undefined

इन दिनों बीजरहित खीरे ज्यादातर ग्राहकों द्वारा पसंद किये जा रहे है।

बीज रहित खीरे की विशेषता

➥फलों की लंबाई: १४- १६ सेमी

➥कटाने में आसान और स्वाद में अच्छी

➥सर्दी के मौसम के अलावा सभी परिस्तिथियो के उत्तम

➥१००% तक उत्पादन क्यों की परागण आवश्यक नहीं

➥हरित गृह/ पौधा गृह जैसी संरक्षित संरचना के तहत आसान खेती

खीरे के पोधो की रोपाई के लिए शाम के समय उपयुक्त है, रोपण करते समय ध्यान रखे की अंकुरों की जड़ो को क्षति ना पहुंचे।

undefined
undefined
undefined
undefined

प्लास्टिक की पन्नी का उपयोग

प्लास्टिक की पन्नी का उपयोग

उठी हुई क्यारियों को काली प्लास्टिक की थैली से ढक दे, जो मौसम की शुरुआत में मिट्टी का तापमान बढ़ाने में मदद करता है, जिससे अंकुरण तेजी से होता है, और फल का विकास भी जल्दी होता है। गर्मी के अधिक गर्म महीनों में मिट्टी को बहुत ज्यादा गर्म होने से रोकने के लिए काले-पर-सफेद प्लास्टिक की थैली का इस्तेमाल करना चाहिए। प्लास्टिकल्चर के अन्य फायदों में खरपतवार नियंत्रण, सिंचाई क्षमता में वृद्धि, विशेष रूप से टपक सिंचाई प्रणाली और बेहतर उर्वरक प्रबंधन शामिल हैं। इस प्रणाली का नुकसान इसमें लगने वाली अधिक लागत ,और फसल की समाप्ति पर सफाई मे लगने वाला समय है।

undefined
undefined

छंटाई

छंटाई

खेती के उपाए

खेती के उपाए

हम अपनी टीम द्वारा किए गए अनुसंधान के आधार पर हरित गृह/ पौधा गृह जैसी परिस्थितियों में बीज रहित खीरे की खेती के लिए सर्वोत्तम तरीको की जानकारी दे रहे हैं।

undefined
undefined

सहारा देना

सहारा देना

पौधो को सहारा देने का कार्य बुवाई के १५ - २० दिन बाद या रोपाई के १०- १२ दिन बाद करना चाहिए, सहारे के लिए तार क्यारी से लगभग १२ फिट की ऊंचाई तक बाँधना चाहिए, पौधो को रस्सी से सहारा देना चाहिए और इन रस्सीयो को ऊपर तारो से बांधना चाहिए, सप्ताह में दो बार रस्सीयो और तारो की जांच करे और उन्हे मजबूत बनाये रखे।

undefined
undefined
undefined
undefined

उर्वरक का प्रयोग

उर्वरक का प्रयोग

उर्वरक और टपक सिचाई का उपयोग मृदा की पोषक स्तिथि पर निर्भर करता हैं, फसल की उम्र के आधार पर निम्नलिखित उर्वरकों को अनुशंसित मात्रा में उपयोग किया जाना चाहिए। कैल्शियम नाइट्रेट (CN),पोटेशियम नाइट्रेट (१३ :००:४५ ) मोनो पोटेशियम, फॉस्फेट (००:५२:३४), मैग्नीशियम सल्फेट, (MgSo4), सल्फेट ऑफ़ पोटाश , जिंक सल्फेट (ZnSo4), मैंगनेशीयम सल्फेट (MnSo4) कॉपर सल्फेट, अमोनियम मोलिब्डेट / सोडियम मोलिबडेट जैसे पोषक तत्वों विशेषज्ञों की सलाह के अनुसार उपयोग करें।

undefined
undefined

पौधो के बिच अंतर

पौधो के बिच अंतर

दो पंक्तियो के बिच ५० सेमी., पौधो के बिच ४० सेमी. का अंतर रखे, फसल के प्रबंधन के लिए पंक्तियों के बिच ६० से ८० सेमी. का अंतर रखें।

undefined
undefined

मृदुरोमिल आसिता

undefined
undefined

खीरे में मृदुरोमिल आसिता एक बहुत महत्वपूर्ण रोग है, सफेद और धूसर रोमिल जैसे ऊतक जल्दी ही पत्ते के निचले हिस्से में विकसित होती है, और संक्रमित पत्ते मर जाता है, पत्ते के किनारे अन्दर की ओर मुड़ जाते हैं लेकिन पत्ता सीधा खड़ा रहता है, गंभीर संक्रमण में पत्ते गिर जाते है, और पौधे कमजोर हो जाते हैं और जिसे फल का विकास ठीक से नहीं हो पाता मृदुरोमिल आसिता रोग को नियंत्रित करने के लिए प्रति एकड़ ६०० ग्राम सेक्टिन (फेनामिडोन + १०% मैंकोजेब ५०% डब्लू /डब्लू ६० डब्लूजी ) का छिड़काव करें।

undefined
undefined

चूषक कीटों का नियंत्रण

चूषक कीटों का नियंत्रण

खीरे में चूषक कीटों और फुदका के संक्रमण का खतरा होता है। इस चरण में चूषक कीटों को नियंत्रित करना बहुत जरूरी होता है, नहीं तो पौधे कमजोर हो जाते हैं और पर्याप्त पुष्प उत्पन्न नहीं करते। चूषक कीटों और फुदका को नियंत्रित करने के लिए कृपया एडमायर या इमिडाक्लोप्रिड ७०% डब्लूजी जैसे सुझाए गए कीटनाशकों का छिड़काव करें।

सीधी बुआई

सीधी बुआई

undefined
undefined

बीजो को २- ३ से.मी. की गहराई में पहाड़ी जैसी रचना बना कर बुवाई करना चाहिए बुवाई के शुरुआती चरण में अत्यधिक सिंचाई से बचना चाहिए, चूहों के नुकसान से बचने के लिए बीज की प्रारंभिक अवस्था में उच्च देखभाल की जानी चाहिए।

इस समय खीरे में घुन का खतरा होता है, घुन को नियंत्रित करने के लिए कृपया प्रति एकड़ २४० मिली. ओबेरोन या स्पीरोमेसीफेन २२.९% एससी जैसे सुझाए गए कीटनाशकों का छिड़काव करें।

undefined
undefined
undefined
undefined

कटाई/तुड़ाई

कटाई/तुड़ाई

आम तौर पर, पहली तुड़ाई बुवाई के ४० दिन बाद होती है, वैसे एक दिन छोड़ कर फलो की तुड़ाई करना एक अच्छी विधि है, फलो को डंठल के साथ तोड़ना चाहिए जिसे वे ज़्यादा समय तक ताजे बने रहते है,अगर किसान बेहतर प्रबंधन करते हैं तो उन्हें प्रति एकड़ ३५ से ४० टन तक पैदावार मिल सकती है।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

नर्सरी में बुवाई

नर्सरी में बुवाई

बीजो को कीट रहित हरित गृह में उगाए जाने चाहिए,और रोपाई के लिए १२ से १५ दिन पुराने अंकुर का उपयोग किया जाना चाहिए।

undefined
undefined

रोपण

रोपण

खीरे के पोधो की रोपाई के लिए शाम के समय उपयुक्त है, रोपण करते समय ध्यान रखे की अंकुरों की जड़ो को क्षति ना पहुंचे।

undefined
undefined

प्लास्टिक की पन्नी का उपयोग

प्लास्टिक की पन्नी का उपयोग

उठी हुई क्यारियों को काली प्लास्टिक की थैली से ढक दे, जो मौसम की शुरुआत में मिट्टी का तापमान बढ़ाने में मदद करता है, जिससे अंकुरण तेजी से होता है, और फल का विकास भी जल्दी होता है। गर्मी के अधिक गर्म महीनों में मिट्टी को बहुत ज्यादा गर्म होने से रोकने के लिए काले-पर-सफेद प्लास्टिक की थैली का इस्तेमाल करना चाहिए। प्लास्टिकल्चर के अन्य फायदों में खरपतवार नियंत्रण, सिंचाई क्षमता में वृद्धि, विशेष रूप से टपक सिंचाई प्रणाली और बेहतर उर्वरक प्रबंधन शामिल हैं। इस प्रणाली का नुकसान इसमें लगने वाली अधिक लागत ,और फसल की समाप्ति पर सफाई मे लगने वाला समय है।

undefined
undefined

छंटाई

छंटाई

पौधो की छंटाई सप्ताह में दो बार कि जाना चाहिए, और ध्यान रखे सिर्फ मुख्य तने को बढ़ने दे और पार्श्व शाखाओं को हटा दे, छंटाई तने के ६ से ७ वी गठान तक की जानी चाहिए।

undefined
undefined

सहारा देना

सहारा देना

पौधो को सहारा देने का कार्य बुवाई के १५ - २० दिन बाद या रोपाई के १०- १२ दिन बाद करना चाहिए, सहारे के लिए तार क्यारी से लगभग १२ फिट की ऊंचाई तक बाँधना चाहिए, पौधो को रस्सी से सहारा देना चाहिए और इन रस्सीयो को ऊपर तारो से बांधना चाहिए, सप्ताह में दो बार रस्सीयो और तारो की जांच करे और उन्हे मजबूत बनाये रखे।

undefined
undefined

उर्वरक का प्रयोग

उर्वरक का प्रयोग

उर्वरक और टपक सिचाई का उपयोग मृदा की पोषक स्तिथि पर निर्भर करता हैं, फसल की उम्र के आधार पर निम्नलिखित उर्वरकों को अनुशंसित मात्रा में उपयोग किया जाना चाहिए। कैल्शियम नाइट्रेट (CN),पोटेशियम नाइट्रेट (१३ :००:४५ ) मोनो पोटेशियम, फॉस्फेट (००:५२:३४), मैग्नीशियम सल्फेट, (MgSo4), सल्फेट ऑफ़ पोटाश , जिंक सल्फेट (ZnSo4), मैंगनेशीयम सल्फेट (MnSo4) कॉपर सल्फेट, अमोनियम मोलिब्डेट / सोडियम मोलिबडेट जैसे पोषक तत्वों विशेषज्ञों की सलाह के अनुसार उपयोग करें।

undefined
undefined

बोरॉन का महत्व

बोरॉन का महत्व

अच्छे पुष्पन के लिए इस स्तर पर बोरोन आधरित पर्ण उर्वरक का छिड़काव करना चाहिए, बोरिविन २०% (बोरान १.५ ग्राम/लीटर पानी ) का साथ छिड़काव करना चाहिए,बेहतर परिणाम के लिए कृपया १० दिनों के बाद इस प्रक्रिया को दोहराए।

undefined
undefined

मृदुरोमिल आसिता

मृदुरोमिल आसिता

खीरे में मृदुरोमिल आसिता एक बहुत महत्वपूर्ण रोग है, सफेद और धूसर रोमिल जैसे ऊतक जल्दी ही पत्ते के निचले हिस्से में विकसित होती है, और संक्रमित पत्ते मर जाता है, पत्ते के किनारे अन्दर की ओर मुड़ जाते हैं लेकिन पत्ता सीधा खड़ा रहता है, गंभीर संक्रमण में पत्ते गिर जाते है, और पौधे कमजोर हो जाते हैं और जिसे फल का विकास ठीक से नहीं हो पाता मृदुरोमिल आसिता रोग को नियंत्रित करने के लिए प्रति एकड़ ६०० ग्राम सेक्टिन (फेनामिडोन + १०% मैंकोजेब ५०% डब्लू /डब्लू ६० डब्लूजी ) का छिड़काव करें।

undefined
undefined

चूषक कीटों का नियंत्रण

चूषक कीटों का नियंत्रण

खीरे में चूषक कीटों और फुदका के संक्रमण का खतरा होता है। इस चरण में चूषक कीटों को नियंत्रित करना बहुत जरूरी होता है, नहीं तो पौधे कमजोर हो जाते हैं और पर्याप्त पुष्प उत्पन्न नहीं करते। चूषक कीटों और फुदका को नियंत्रित करने के लिए कृपया एडमायर या इमिडाक्लोप्रिड ७०% डब्लूजी जैसे सुझाए गए कीटनाशकों का छिड़काव करें।

undefined
undefined

घुन नियंत्रण

घुन नियंत्रण

इस समय खीरे में घुन का खतरा होता है, घुन को नियंत्रित करने के लिए कृपया प्रति एकड़ २४० मिली. ओबेरोन या स्पीरोमेसीफेन २२.९% एससी जैसे सुझाए गए कीटनाशकों का छिड़काव करें।

undefined
undefined

कटाई/तुड़ाई

कटाई/तुड़ाई

आम तौर पर, पहली तुड़ाई बुवाई के ४० दिन बाद होती है, वैसे एक दिन छोड़ कर फलो की तुड़ाई करना एक अच्छी विधि है, फलो को डंठल के साथ तोड़ना चाहिए जिसे वे ज़्यादा समय तक ताजे बने रहते है,अगर किसान बेहतर प्रबंधन करते हैं तो उन्हें प्रति एकड़ ३५ से ४० टन तक पैदावार मिल सकती है।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button