पीछे
विशेषज्ञ लेख
कैसे पता करें कि आपकी अगली फसल के लिए कौन से उर्वरक की आवश्यता हैं !

आप की फसल में किन उर्वरक की आवश्यकता है, यह जाने के दो आसान तरीके है, एक मिट्टी परीक्षण के द्वारा और दूसरा पत्तियों के डंठल द्वारा।

undefined
undefined

मृदा परीक्षण का महत्व

मृदा परीक्षण का महत्व

मिट्टी परीक्षण के द्वारा फसल के लिए उर्वरक की उचित मात्रा को जाने में मदत मिलती है, क्युकी कई उर्वरक पहले से ही मिट्टी में मौजूद होते हैं, मिट्टी परीक्षण द्वारा मिट्टी में उर्वरक के उपयोग और किसी विशेष क्षेत्र में हो रही समस्या को जानने और उसके निवारण में सहायक होता हैं।

undefined
undefined

मृदा परीक्षण करने का सर्वोत्तम समय

मृदा परीक्षण करने का सर्वोत्तम समय

मिट्टी परीक्षण के सटीक परिणाम मिले इसलिए मिट्टी का नमूने एकत्र करने की तकनीक सही होना चाहिए, क्युकि परिणाम समय के अनुसार भिन्न हो सकते है इसलिए हर वर्ष एक ही समय पर मिट्टी परीक्षण करना चाहिए, इस समय अधिकांश किसान मिट्टी परीक्षण की योजना बना रहे है, वैसे मिट्टी परीक्षण के लिए फसल कटाने के बाद या नई फसल की बुवाई के पहले का समय श्रेष्ट होता हैं, समयान्तः अधिकांश फसलों के लिए मिट्टी परीक्षण हर 2-3 साल में किया जाना चाहिए।

undefined
undefined

मिट्टी का नमूना लेना

मिट्टी का नमूना लेना

➥ मिट्टी के नमूने पूरे क्षेत्र से अनियमित रूप से एकत्रित करें, मिट्टी के नमूने आड़े तिरछे स्वरूप में एकत्रित करना चाहिए।

➥ मिट्टी के नमूने 20 अलग क्षेत्रों से इकट्ठे किए जाने चाहिए।

➥ मिट्टी परीक्षण के लिए नमूने 15 से 20 से. मी. की गहराई में से एकत्रित करना चाहिए।

➥ नमूने स्वच्छ प्लास्टिक की बाल्टी में रखे और संयंत्र सामग्री, में से पत्थर के टुकड़ो को हटा दें, मिट्टी के ढेलो को तोड़ दें, और मिट्टी के नमूने को अच्छी तरह से मिला दे।

undefined
undefined

➥ यदि नमूना गीला है, तो मिश्रित करने से पहले इसे सूखा लेना चाहिए।

➥ मिश्रित नमूना मात्रा में लगभग 2 कप होना चाहिए।

➥ मिट्टी के नमूने के बॉक्स पर अपना पता, जमीन नंबर और नमूने का नम्बर लिख कर रखना चाहिए।

➥ नमूना जमा करने के लिए फॉर्म भरें, और उर्वरक की सिफारिश प्राप्त करने के लिए फार्म के पीछे फसल का नाम चुनें।

undefined
undefined

पत्ती के डंठल द्वारा जांच

पत्ती के डंठल द्वारा जांच

स्थायित्व फसल और बागवानी फसले जैसे अंगूर की पत्ती के डंठल से मिट्टी में पोषक तत्वों की स्तिथि का पता किया जा सकता हैं।

undefined
undefined

पत्ती के डंठल से जांच के चरण

पत्ती के डंठल से जांच के चरण

➥ पत्ती के डंठल से, पोषक पदार्थ की स्थिति जानने के लिए क्षेत्र के अलग अलग भागो से कम से कम पत्ती के १५ नमूने एकत्र करना चाहिए|

➥ जिस क्षेत्र में मिट्टी की जांच करना है, वहां से कम से कम २५ या उसे अधिक पत्ती के डंठल एकत्रित करना चाहिए।

➥ नमूने एकत्रित करने के लिए परिपक्व पत्तियों का चयन करें , और हाल ही में परिपक्व हुई पत्तियों को शामिल करें।

➥ धूल भरे क्षेत्र से, नमूने एकत्रित करने से बचना चाहिए।

➥ पर्ण उर्वरक के उपयोग के तुरंत बाद पत्ती के नमूने एकत्र नहीं करना चाहिए।

➥ पत्तियों और डंठल के नमूनों को कागज के बेग में रख कर, जांच फॉर्म के साथ प्रयोगशाला में जमा करना चाहिए।

➥ प्लास्टिक बैग या अन्य एयरटाइट कंटेनर का इस्तेमाल न करें।

undefined
undefined

इस कार्य के अलावा, किसान भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना मृदा हेलथ कार्ड के द्वारा भी विभिन्न फसलों की पोषक आवश्यकताओं की जांच कर सकते हैं, इस योजना में गांव अनुसार मृदा सम्बंधित जानकारी एकत्र की जाती है, अधिक जानकारी के https://www.soilhealth.dac.gov.in/ इस वेब साइड पर जाये।

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button