पीछे
विशेषज्ञ लेख
भाग 2- अंगूर के बागों में रूटस्टॉक और रोग प्रबंधन

कलम (रूटस्टॉक) की देखभाल

कलम (रूटस्टॉक) की देखभाल

रोपण के १० से १५ दिनों के बाद पौधे पर नई वृद्धि दिखाई देने लगती है, इस बिच फसल की नियमित सिचाई महत्वपूर्ण हैं, क्युकी पोषक प्रदान करने वाली जड़े मिट्टी की ऊपरी सतह पर होती है, इसलिए इस चरण में सिचाई बार-बार आवश्यकता होती है।

undefined
undefined
undefined

रोग एवं कीट प्रबंधन

रोग एवं कीट प्रबंधन

सामान्य रूप से व्यावसायिक किस्मे जंग रोग के अलावा अन्य रोग के प्रति रोग प्रतिरोधी होती हैं, लेकिन जंग रोग व्यापक समस्या होती है, जो रोपण के ३ माह बाद पुरानी पत्तियों पर दिखाई देते है, जो रस चूस कर पत्तियों को कमजोर बनाती हैं, इसके निवारण के लिए ब्लू कॉपर २ ग्राम/ लीटर और बाविस्टिन १ ग्राम/ लीटर पानी में मिलाकर छिड़काव करना चाहिए, इसके साथ ही पिस्सु और झींगुर भी फसल को प्रभावित करते है, जिसके निवारण के लिए उचित कीटनाशक का उपयोग करना चाहिए।

undefined
undefined

कलम (रूटस्टॉक) की पुनः छटाई करना

कलम (रूटस्टॉक) की पुनः छटाई करना

खेत में लगाई गई कलम(रूटस्टॉक) का विकास समान नहीं होता क्योकि रोपण के लिए लगाई गई कलम नर्सरी से लाई गई होती है, इसलिए सभी टहनियों और जड़ो के समान विकास के लिए पौधो की छटाई आवश्यक होती हैं।

undefined
undefined

नए अंकुरों की पुनः छटाई

नए अंकुरों की पुनः छटाई

कलम की एक बार छटाई के बाद अंकुरण तेजी से होता है, और कई शाखाए विकसित होने लगती हैं, एक कलम से लगभग ५ - ६ शाखाए विकसित हो जाती है, लेकिन अगले चरण के लिए सिर्फ दो शाखाये ही रखी जानी चाहिए।

undefined
undefined
undefined
undefined

कलम(ग्राफ्टिंग) बांधना

कलम(ग्राफ्टिंग) बांधना

जनवरी से फरवरी माह के बिच लगाई गई कलमे अगस्त से सितम्बर माह तक कलम बांधने ( ग्राफ्टिंग करने के लिए) के लिए तैयार हो जाती हैं, क्योकि इस समय तापमान ३० - ३५ °C के बिच और आद्रता ८०% तक होती है , जो कलम बांधने के लिए उचित होता है, इसलिए अगस्त के अंतिम सप्ताह से सितम्बर के अंतिम सप्ताह तक यह कार्य करने पर अच्छे परिणांम मिलते है, और फसल का विकास अच्छा होता हैं।

कलम से पौधो की तैयारी

कलम से पौधो की तैयारी

पौधो में रस प्रवाह पौधो के विकास के लिए जरुरी हैं, यदि आवश्यक हो तो २ से ३ दिनों में सिचाई करें, कलम बांधने के लिए सामान्यतः जड़ो की २ फिट ऊपर कट लगा के किया जाता हैं।

undefined
undefined

कलम का चयन

कलम का चयन

गुट्टी बांधने के लिए स्वस्थ कलमों का चयन किया जाना चाहिए, जो रोग मुक्त हो, सामान्यतः २ कली वाली कलमों का चयन किया जाता हैं, कलम बांधने से पहले कलम को २ - ३ घंटो के लिए बाविस्टिन के घोल में २ ग्रा./ लीटर में डूबा कर रखना चाहिए, जो इसकी कवक रोगो से रक्षा करेगा, ध्यान रखे और परिपक़्व कलमों का चयन करें।

undefined
undefined
undefined
undefined

गुट्टी बांधना

गुट्टी बांधना

गुट्टी बांधना एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमे पुराने तने के हिस्से में कट लगा कर नई कलम उसके साथ जोड़ी जाती हैं।

undefined
undefined

गुट्टी की देखभाल करना

गुट्टी की देखभाल करना

गुट्टी बांधने के १० से १२ दिनों के बाद तने पर कली बना शुरू हो जाता है, जबकि अंकुरण १५ से १७ दिनों शुरू हो जाता है, लेकिन इस समय पिस्सू का आक्रमण का खतरा अधिक होता है जो कली को खा लेते है, इसलिए अनुसंशित कीटनाशकों का प्रयोग करना चाहिए। यदि इस समय आद्रता ९० % या उसे अधिक हो जाये तो कोमल फफूंदी रोग होने का खतरा होता हैं, इसके निवारण के लिए प्रणालीगत कवकनाशी का छिड़काव करना चाहिए।

undefined
undefined

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

undefined
undefined

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button