पीछे
विशेषज्ञ लेख
कृषि में सौर ऊर्जा का उपयोग

जैसा हम सभी जानते है, भारत एक कृषि प्रधान देश है,और अधिकतर उद्योग कृषि उत्पादों पर ही निर्भर है, इसलिए देश की बढ़ती जनसँख्या के लिए भोजन से लेकर उपयोग की अधिकांश वस्तुए कृषि से आती है जिसे पूर्ण करना चुनोतियो से भरा होता है, कृषि क्षेत्र में उपयोग होने वाले उपकरणों को इस्तेमाल करने के लिए बिजली की अधिक आवश्यकता होती है लेकिन आज भी गांव के अंतरिम भागो में बिजली की आवश्यकता को पूरा करना कठिन कार्य है।

हमें देश की आवश्यकता के अनुसार ज़्यदातर बिजली कोयले से चलने वाले कारखानों से मिलती है, लेकिन ये स्त्रोत सीमित है, और वायु प्रदूषण भी करते है । पिछले कुछ समय से सरकार पवन ऊर्जा को बढ़ावा दे रही है, लेकिन उसका रखरखाव महगा होता है, और हर क्षेत्र के लिए उपयुक्त नहीं है। इसलिए, अब सरकार किसानों के फायदे के लिए सौर ऊर्जा पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही है, को कम खर्चीले और रखरखाव में आसान है, जिसे खेत, घर की छत या किसी भी मैदान में आसानी से लगाया जा सकता है,

जिससे बिजली की समस्या का स्थायी समाधान हो जाएगा। जो किसानो के लिए बिजली की समस्या का स्थाई समाधान बन रहे है. भारत एक उष्ण कटिबंधीय देश है जहा लगभग पुरे वर्ष पर्याप्त सूर्य प्रकाश उपलब्ध होता है। साथ ही केंद्र और राज्य सरकार सौर ऊर्जा सयंत्र लगाने के लिए कई योजना के माध्यम से किसानो को आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है।

सौर ऊर्जा क्या है

सौर ऊर्जा क्या है

सौर ऊर्जा का उपयोग कृषि क्षेत्र के लिए एक क्रांतिकारी बदलाव लाने में समर्थ है , जो कई मायनों में मूल्यवान जल संसाधनों को बचाने, बिजली पर निर्भरता को कम करने, बिजली की लागत को बचाने और यहां तक कि एक अतिरिक्त राजस्व स्रोत बनने में भी सहायक हो सकता है।

कुछ लोग सौर ऊर्जा का इस्तेमाल सिर्फ प्रकाश करने या घरेलु आवश्यकता को पूरा करने के लिए किया जा सकता है, ऐसा मानते है, लेकिन आज हम आपको कृषि क्षेत्र में सौर ऊर्जा के अन्य उपयोगी इस्तेमाल की जानकारी उपलब्ध करा रहे है जो आप के लिए बहुत उपयोगी होगी। उद्योग जगत में हुए उत्कृष्ट विकास के कारण सौर ऊर्जा सयंत्र लगाना और प्रबंधित करना अब सरल और सस्ता हो गया है, जिससे कृषि क्षेत्र में विभिन्न अनुप्रयोगों में अधिक उपयोग संभव हो सके हैं। उनमें से कुछ है: -

undefined
undefined

1. सौर ऊर्जा से चलने वाले जल पंप

  1. सौर ऊर्जा से चलने वाले जल पंप

कई स्थानों पर जहां बिजली की आपूर्ति सीमित है या उपलब्ध नहीं है या मौसम पर निर्भर होती है ऐसी स्तिथि में सौर जल पंप बहुत उपयोगी हो सकते हैं। सौर पंप सौर ऊर्जा का उपयोग कर जलाशयों और नहरों से पानी को खेतों तक सिचाई और अन्य कामो के लिए उपलब्द कराते है, जिसे बिजली कटौती पर निर्भरता कम होती है, और समय और पैसो की बचत होती है जो किसानो के लिए आर्थिक रूप से मददगार है, इस प्रकार के ईस्तमाल के लिए बिजली को बैटरी में संग्रहीत किया जाता है जो इनवर्टर के द्वारा दिन या रात कभी भी उपयोग की जा सकती है। इस बिजली का उपयोग पानी की आपूर्ति के लिए पंपों को चलाने में कुशलतापूर्वक किया जा सकता है |

7.5 एचपी का सोलर DC सबमर्सिबल वाटर पंप सीधे सोलर पावर द्वारा संचालित किया जा सकता है। सोलर पैनल बिजली जनरेट करते हैं, जिसका उपयोग मोटर को बिजली देने के लिए किया जाता है। क्योंकि वाटर पंप की मोटर डायरेक्ट करंट से चलती है, इस टाइप के पंप में सोलर इन्वर्टर की जरूरत नहीं होती है। एक कुएं के पंप को चलाने के लिए आवश्यक सौर पैनलों की संख्या उस कुएं के पंप के एचपी पर निर्भर करती है। आरपीएस सिस्टम में 1/2 एचपी पंप के लिए केवल 2 सौर पैनल की आवश्यकता से लेकर 5 एचपी के लिए लगभग 20 सौर पैनल तक की आवश्यकता होती है।

undefined
undefined

2.पानी और कक्ष तापमान:-

2.पानी और कक्ष तापमान:-

भारत में कृषि के साथ पशुपालन और डेयरी संचालन एक द्वितीयक व्यवसाय की तरह किया जाता है, लेकिन देश के विभन्न भागो में अलग अलग मौसम इस व्यवसाय के लिए एक चुनौती बन कर सामने आता है, चूंकि, ज्यादातर पशुपालन और डेयरी संचालन बंद संरचनाओं में किया जाता है, इसलिए संचालन के लिए उचित तापमान और हवा की गुणवत्ता महत्वपूर्ण होती है। डेयरी की बंद संरचनाओं की छत पर सोलर पेनल लगा कर सौर ऊर्जा से चलने वाले पंखे, हिटर यहाँ तक की गर्मी के मोसम में तापमान कम करने के लिए कूलर का उपयोग भी किया जा सकता है, एक दिन में पंखे या सिर्फ हीटर चलाने के लिए 10 किलो वाल्ट बिजली की आवश्यकता होती है जिसका खर्च लगभग 12 लाख होता है जो 40% सब्सिडी के बाद लगभग 7 लाख तक आता है।

यदि मौसम अनुसार गर्म पानी की आवश्यकता हो तो 100 लीटर पानी के लिए हीटर 15 से 17 हजार तक मिल जाता है जिसमे 15 % तक छूट मिल सकती है। जिसके लिए किसान अभी लकड़ी या कोयले का उपयोग करते है जो वायु प्रदुषण करता है और समय भी व्यर्थ होता है। सौर ऊर्जा से चलने वाली हीटिंग प्रणाली का उपयोग करके, किसान बिजली बिल पर होने वाली लागत को आसानी से बचा सकते हैं। और आवश्यकतानुसार तापमान नियंत्रण प्रणालियों को प्रभावी ढंग से उपयोग कर सकते है।

undefined
undefined

3. फसल एवं अनाज को सुखाने के लिए

  1. फसल एवं अनाज को सुखाने के लिए

फसलों और अनाजों को सुखाने के लिए सूरज की रोशनी का उपयोग किसानो द्वारा सदियों से किया जाता रहा है, वैसे तो यह एक पूरी तरह से मुफ़्त, व्यवहार्य विधि है जिसे आसानी से नियोजित किया जा सकता है, लेकिन इसमें फसलों को हवा, फफूंद, कीट आदि के संपर्क में आने और उन्हें प्रदूषित करने का खतरा होता है। सोलर ड्रायर का उपयोग फसलों, सब्जियों और फलों से नमी की मात्रा को खत्म करने के लिए किया जाता है। सोलर ड्रायर में सीमेंट, ज़िंक वाला लोहा, ईंट और प्लाईवुड जैसी आसानी से उपलब्ध और सस्ती सामग्री से बना एक बॉक्स होता है। बॉक्स की ऊपरी सतह पर पारदर्शी सिंगल और डबल-लेयर कांच की शीट से ढकी होती है, जो आने वाली सूरज की किरणों को अवशोषित करने के लिए अंदर की सतह को काले रंग का रखा जाता है। यह बॉक्स इस प्रकार काम करते है जो अंदर की ऊर्जा को बहार नहीं जाने देती और जैसे ही अंदर की हवा गर्म होती है, यह प्राकृतिक रूप से ऊपर उठती है और डिब्बे के अंदर ट्रे में रखे फलों, सब्जियों और फसलों से नमी निकल जाती है, जब बॉक्स के अंदर का तापमान बढ़ जाता है तो गर्म हवा कांच के पास बने स्थान से निकल जाती है और निचे से ताजी हवा तेजी से अंदर आती है और यह प्रक्रिया जारी रहती है।आज ऐसे सौर ड्रायर हैं, जो अधिकतम सौर ऊर्जा का उपयोग करने में मदद कर सकते हैं, जिसे बॉक्स में ट्रे का उपयोग उपज को सुखाने के लिए किया जाता है। ये सिस्टम प्रक्रिया में लगने वाले समय को कम करता है जिसे किसी भी मौसम में उपयोग किया जा सकता है।

undefined
undefined

4. ग्रीन हाउस प्रबंधन

  1. ग्रीन हाउस प्रबंधन

कुछ फसलों और पौधों को अच्छा लाभ कमाने या विपरीत मौसम में उगाने के लिए व्यावसायिक ग्रीनहाउस का उपयोग किया जाता है, जहां उचित परिस्तिथि के साथ सूर्य प्रकाश का उपयोग प्रकाश के लिए करते हैं न कि गर्मी के लिए फ़िलहाल व्यावसायिक ग्रीनहाउस तापमान बनाए रखने के लिए तेल और गैसों पर निर्भर रहते हैं।

सोलर ग्रीन हाउसिंग हीटिंग सिस्टम का उपयोग आवश्यक प्रकाश और उचित तापमान बनाए रखने दोनों के लिए किया जाता है। सौर ग्रीनहाउस में ऊर्जा एकत्र करने के लिए एक सौर पैनल और ऊर्जा को संग्रहीत करने के लिए बैटरी होती है। इसमें इन्सुलेशन भी है जो ठंडे दिनों और रातों के दौरान गर्मी बनाए रखने में मदद करता है।

यदि आप 10,000 वर्ग फुट का ग्रीन हाउस ईस्तमाल कर रहे है तो आपको अपनी बिजली की आपूर्ति के लिए 3-फीट x 5-फीट के 27 सौर पैनलों की आवश्यकता होगी। अगर आप 2 किलो किलोवाट का सोलर पैनल लगवा रहे हैं तो इसका खर्च लगभग 1.20 लाख रुपये तक आएगा. मगर आपको इस पर 40 फीसदी की सब्सिडी सरकार से मिल जाएगाी, तो आपकी लागत घटकर 72 हजार रुपये रह जाएगी और सरकार की ओर से आपको 48,000 रुपये की सब्सिडी मिल जाएगी.

undefined
undefined

5 . सौर ऊर्जा से संचालित कोल्ड स्टोरेज

5 . सौर ऊर्जा से संचालित कोल्ड स्टोरेज

कई स्थानों पर किसानों को अपने खेतों में कोल्ड स्टोरेज की कमी के कारण भारी नुकसान का सामना करना पड़ता है। या कोल्ड स्टोरेज हो फिर भी बिजली कटौती के कारण सुविधा का लाभ नहीं ले पाते, दरसल इन कोल्ड स्टोरेज को पुरे दिन /रात चलाने के लिए बहुत बिजली की आवश्यकता होती है, जो कई क्षेत्रों में नहीं मिल पाती, कोल्ड स्टोरेज के द्वारा किसान अपने उत्पादों को किसी भी विपरीत परिस्तिथि में लंबे समय तक सुरक्षित रख सकते है :-

सौर ऊर्जा संचालित कोल्ड स्टोरेज 3 प्रकार के होते है

• छोटे कोल्ड स्टोरेज: जो व्यक्तिगत उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है

• मध्यम कोल्ड स्टोरेज: छोटे समूहों या सामुदायिक स्तर पर उपयोग किया जाता है।

• बड़े कोल्ड स्टोरेज: बड़े पैमाने के व्यवसायों के लिए उपयोग किया जाता है

एक 10 मीट्रिक टन के कोल्ड स्टोरेज के लिए 5 से 6 किलोवाट के सोलर पेनल की आवश्यकता होती है।

छोटे और मध्यम कोल्ड स्टोरेज बनाए के लिए कुछ प्रदेश सरकार लागत पर 50 प्रतिशत तक सब्सिडी दे रही है। राज्य सरकार की ओर से छोटे कूलिंग चैंबर बनाने के लिए इसकी इकाई लागत 13 लाख रुपए निर्धारित की है, जिस पर 50 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है।

undefined
undefined

सौर ऊर्जा कभी ख़त्म न होने वाला संसाधन हैं और और यह गैर-नवीकरणीय संसाधनों को बदलने का सबसे अच्छा उपाए है, साथ ही सौर ऊर्जा वातावरण के लिए भी लाभकारी हैं, इसे वातावरण प्रदूषित नहीं होता. चूँकि सौर ऊर्जा एक अनविनीकरणीय ऊर्जा संसाधन हैं. अतः भारत जैसे देशों में जहाँ ऊर्जा का उत्पादन महँगा पड़ता हैं, तो वहाँ ये संसाधन इसका बेहतरीन विकल्प हैं जो सस्ता होता है और लम्बे समय तक उपयोगी होता है।

सौर ऊर्जा उत्पादन के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार मिलकर कई योजनाएं चला रही हैं, जैसे कृषि विभाग मध्य प्रदेश सूर्य रायथा, प्रधान मंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा, पीएम कुसुम योजना, मुख्यमंत्री सौर पंप योजना जिसका सीधा लाभ किसान ले सकते हैं अधिक जानकारी के लिए आप हमारी सरकारी योजना के भाग में जानकारी ले सकते है।

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद, हमें उम्मीद है कि आप लेख को पसंद करने के लिए ♡ के आइकन पर क्लिक करेंगे और लेख को अपने दोस्तों और परिवार के साथ भी साझा करेंगे!

हमारा मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

चलते-फिरते फ़ार्म:हमारे ऐप के साथ कभी भी, कहीं भी वास्तविक बाजार की जानकारी पाए , वो भी अपनी भाषा में।।

google play button